अमरुद मियाँ, अमरुद मियाँ- योगेन्द्रदत्त शर्मा

अमरूद मियाँ! अमरूद मियाँ!
मैं जहाँ कहीं भी जाता हूँ,
तुम रहते हो मौजूद, मियाँ!
तुम मीठे-मीठे, गोल-गोल
जैसे शरबत से भरे हुए,
इतराते फिरते हो, लेकिन
लगते अनार से डरे हुए।
तुम रहे इलाहाबाद कभी
पर गए यहाँ पर कूद, मियाँ!
अमरूद मियाँ! अमरूद मियाँ!
जब होते हरे, कड़े लगत
पीले होते तो बड़े नरम,
भीतर से तुम बेहद सफेद
जैसे रसगुल्ला या चमचम।
इतने सफेद तुम कैसे हो
क्या पीते हो तुम दूध, मियाँ!
अमरूद मियाँ! अमरूद मियाँ!
तुम आम नहीं, पर खास बहुत
कुछ बात निराली है जरूर,
क्या इत्र लगाकर आते हो
खुशबू फैला देते, हुजूर।
तुम इधर-उधर लुढ़का करते,
क्या चलते आँखें मूँद, मियाँ!
अमरूद मियाँ! अमरूद मियाँ!

-योगेन्द्रदत्त शर्मा

About साहित्य दुनिया

View all posts by साहित्य दुनिया →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *