तहज़ीब हाफ़ी की ग़ज़लें..

1. तेरा चुप रहना मिरे ज़ेहन में क्या बैठ गया इतनी आवाज़ें तुझे दीं कि गला बैठ गया यूँ नहीं है कि फ़क़त मैं ही उसे चाहता हूँ जो भी उस पेड़ की छाँव में गया बैठ गया इतना मीठा …

तहज़ीब हाफ़ी की ग़ज़लें.. आगे पढ़ें...

मीर के मशहूर शेर

जिन जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए अक्सर हमारे साथ के बीमार मर गए _____ दिखाई दिए यूँ कि बे-ख़ुद किया हमें आप से भी जुदा कर चले ________ इश्क़ माशूक़ इश्क़ आशिक़ है यानी अपना ही …

मीर के मशहूर शेर आगे पढ़ें...

मिर्ज़ा ग़ालिब के मशहूर शेर

कोई उम्मीद बर नहीं आती कोई सूरत नज़र नहीं आती _____ जान दी, दी हुई उसी की थी हक़ तो यूँ है कि हक़ अदा न हुआ ______ ज़िंदगी यूँ भी गुज़र ही जाती क्यूँ तिरा राहगुज़र याद आया ______ …

मिर्ज़ा ग़ालिब के मशहूर शेर आगे पढ़ें...

जिगर शेओपुरी की नज़्म- ‘बड़ी बेबसी है जो ग़म दे रहे हैं, हमें भूल जाना, क़सम दे रहे हैं’

बड़ी बेबसी है जो ग़म दे रहे हैं, हमें भूल जाना, क़सम दे रहे हैं जो दिल में कभी थी, उसी आरज़ू का, मुहम्मत से जो की उसी गुफ़्तगू का, तुम्हें वास्ता हम सनम दे रहे हैं हमें भूल जाना …

जिगर शेओपुरी की नज़्म- ‘बड़ी बेबसी है जो ग़म दे रहे हैं, हमें भूल जाना, क़सम दे रहे हैं’ आगे पढ़ें...

मोमिन की ग़ज़ल- “तुम मिरे पास होते हो गोया, जब कोई दूसरा नहीं होता”

असर उसको ज़रा नहीं होता रंज राहत-फ़ज़ा नहीं होता बेवफ़ा कहने की शिकायत है तो भी वादा-वफ़ा नहीं होता तुम हमारे किसी तरह न हुए वर्ना दुनिया में क्या नहीं होता उसने क्या जाने क्या किया ले कर दिल किसी …

मोमिन की ग़ज़ल- “तुम मिरे पास होते हो गोया, जब कोई दूसरा नहीं होता” आगे पढ़ें...

उमैर नज्मी की मशहूर ग़ज़लें..

1. बिछड़ गए तो ये दिल उम्र भर लगेगा नहीं लगेगा लगने लगा है, मगर लगेगा नहीं नहीं लगेगा उसे देख कर, मगर ख़ुश है मैं ख़ुश नहीं हूँ, मगर देख कर लगेगा नहीं ! हमारे दिल को अभी मुस्तक़िल …

उमैर नज्मी की मशहूर ग़ज़लें.. आगे पढ़ें...

ज़िन्दगी है दिल की धड़कन तेज़ हो जाने का नाम..

जाने अफ़साना यही कुछ भी हो अफ़साने का नाम, ज़िन्दगी है दिल की धड़कन तेज़ हो जाने का नाम क़तरा क़तरा ज़िन्दगी के ज़हर का पीना है ग़म और ख़ुशी है दो घडी पीकर बहक जाने का नाम इंतज़ार ए …

ज़िन्दगी है दिल की धड़कन तेज़ हो जाने का नाम.. आगे पढ़ें...

वो हम-सफ़र था मगर उससे हम-नवाई न थी

वो हम-सफ़र था मगर उससे हम-नवाई न थी कि धूप छाँव का आलम रहा जुदाई न थी न अपना रंज न औरों का दुख न तेरा मलाल शब-ए-फ़िराक़ कभी हमने यूँ गँवाई न थी मुहब्बतों का सफ़र इस तरह भी …

वो हम-सफ़र था मगर उससे हम-नवाई न थी आगे पढ़ें...

साहिर की ग़ज़ल..

ख़ुद्दारियों के ख़ून को अर्ज़ां ना कर सके हम अपने जौहरों को नुमायाँ ना कर सके होकर ख़राब-ए-मै तेरे ग़म तो भुला दिए लेकिन ग़म-ए-हयात को दरमाँ ना कर सके टूटा तिलिस्म-ए-अहद-ए-मुहब्बत कुछ इस तरह फिर आरज़ू की शम्म’आ फ़रोज़ाँ …

साहिर की ग़ज़ल.. आगे पढ़ें...