सच्ची घटनाओं पर आधारित लेखक लाल भाटिया की किताब प्रकाशित

सोचिए, अगर आपको किसी दूसरे देश में बिना किसी सपोर्ट सिस्टम के अपनी आजादी की लड़ाई लड़नी पड़े, अपने ही परिवार के सदस्यों से धोखा खाना पड़े और मुकदमे का सामना करना पड़े, इस बारे में कोई सोच भी कैसे सकता है? लेकिन यही लेखक लाल भाटिया की पुस्तक ‘इंडिक्टिंग गोलियत’ का सारांश है जो एक ऐसे व्यक्ति की वास्तविक जीवन की कहानी है जिसे अमेरिका में एक वकील के बिना न्याय के लिए संघर्ष करना पड़ा जब उसकी पूर्व पत्नी के चाचा ने उसके ख़िलाफ़ धोखाधड़ी के आरोप लगाए थे।

यह पुस्तक संयुक्त राज्य अमेरिका के लगभग 21 न्यायालयों में चले व्यापक मुकदमे के आधार पर स्थापित सिद्ध ना किए गए तथ्यों, सबूतों और गवाही पर आधारित है। लेखक, लाल भाटिया को यातनाएं दी गईं, पीड़ित किया गया, झूठा दोषी ठहराया गया और जेल में डाल दिया गया। अंत में इस  मामले से निकलने और भारत लौटने में भाटिया को 13 साल लग गए। भाटिया इस विषय में कहते हैं, “मैंने अपने 13 साल की क़ैद के दौरान यह किताब लिखी। मैंने हर मिनट का विवरण लिखा और अदालतों में जूझते हुए अपने दावे का समर्थन करने के लिए अविवादित तथ्यों और सबूतों को एकत्र किया और इसे किताब से जोड़ा। नोशन प्रेस एकमात्र प्रकाशन कंपनी थी जो इस पुस्तक को प्रकाशित करने के लिए सहमत हो गई क्योंकि यह सिस्टम के अंधेरे पक्ष को उजागर करती किताब है। ”

Indicting Goliath’s writer Lal Bhatiya
वो आगे कहते हैं “यह एक तेरह साल की यात्रा थी, जो अव्यवस्था के ख़तरों से गुज़र रही थी, जिसने मेरी ईमानदारी और शारीरिक सहनशक्ति का परीक्षण लिया। किसी ने भी यह आंकलन नहीं किया कि किसी व्यक्ति को अपराध में फंसाना एक स्कैम हो सकता है।”
इस पुस्तक में भाटिया के अमेरिकी प्रशासन में घोर अन्याय पर प्रकाश डालने के लिए किए जा रहे प्रयासों का उल्लेख है। पुस्तक तीन भाषाओं में जारी की गई है – अंग्रेजी, रूसी और बंगाली। इसे आलोचकों से बेहतरीन समीक्षाएँ मिली हैं, जिसमें अमेज़ॅन से 4.9 और गुड रीड्स से 4.72 हैं। लाल भाटिया के सफ़र के बारे में जानने के लिए उत्सुक सभी लोगों के लिए, यह पुस्तक फ्लिपकार्ट और अमेज़न पर उपलब्ध है। जल्द ही हम इस पुस्तक की समीक्षा भी साहित्य दुनिया में प्रकाशित करेंगे।

दोस्ती का सवाल

About साहित्य दुनिया

View all posts by साहित्य दुनिया →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *