यंत्र(21) औज़ार, उपकरण।
यथार्थ (122) जो अपने अर्थ (आशय, उद्देश्य भाव आदि) के ठीक अनुरूप हो, वास्तविक।
यद्यपि (21) यद्यपि, अगर ऐसा है।
यशस्वी (122) जिसका यश चारों ओर फैला हो।
यह (2) एक सर्वनाम जिसका प्रयोग वक्ता और श्रोता को छोड़कर निकट के और सब मनुष्यों तथा पदार्थो के लिए होता है।
या (2) विकल्प सूचक शब्द, अथवा ।
याचक (22) मांगने वाला, भिक्षुक।
यातना (212) घोर कष्ट।
यातायात (2221) एक स्थान से दूसरे स्थान पर आते जाते रहने की क्रिया या भाव, आना-जाना।
याद (21) स्मरण रखने की क्रिया या भाव।
यान (21) वह उपकरण या साधन जिसपर सवारं होकर यात्रा की जाती है अथवा माल ढोया जाता है।
युक्त (21) किसी के साथ जुड़ा, मिला या लगा हुआ ; सम्मिलित।
युग (2) काल, समय ; काल-गणना के विचार से कल्प के चार उप-विभाग (सत्य, त्रेता, द्वापर और कलि में से प्रत्येक।)
युगल (12) युग्म, जोड़ा।
युग्म (21) दो चीजे जो प्राय: या सदा साथ आती या रहती हों, जोड़ा।
युद्ध (21) अस्त्र-शस्त्रों की सहायता से दो पक्षों में होने वाली लड़ाई, रण संग्राम।
युवक (12) जवान आदमी।
योगदान (2121) किसी को सहायता देने, हाथ बंटाने की क्रिया या भाव।
योगी (22) वह जो योग की साधना करता हो।
योग्य (21) काबिल, लायक, उपयुक्त, उचित, मुनासिब; योग्यता रखने वाला।
योग्यता (212) योग्य होने की अवस्था या भाव, काब्लियत ; गुण।
योजना (212) किसी कार्य को निष्पादित करने का प्रस्तावित कार्यक्रम (प्लान)।
यौवन (22) युवा या युवती होने की अवस्था या भाव।

About साहित्य दुनिया

View all posts by साहित्य दुनिया →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *