Ameer Imam ShayariAmeer Imam

Ameer Imam Shayari ~ अमीर इमाम आज के बेहतरीन शायरों में शुमार किए जाते हैं. उनके कुछ बेहतरीन शेर हम यहाँ पेश कर रहे हैं-

पहले सहरा से मुझे लाया समुंदर की तरफ़
नाव पर काग़ज़ की फिर मुझको सवार उसने किया

अमीर इमाम
__

अपनी तरफ़ तो मैं भी नहीं हूँ अभी तलक
और उस तरफ़ तमाम ज़माना उसी का है

अमीर इमाम
___

जो शाम होती है हर रोज़ हार जाता हूँ
मैं अपने जिस्म की परछाइयों से लड़ते हुए

अमीर इमाम
__
हफ़ीज़ मेरठी के बेहतरीन शेर…

धूप में कौन किसे याद किया करता है
पर तिरे शहर में बरसात तो होती होगी

अमीर इमाम
__

‘अमीर’ इमाम बताओ ये माजरा क्या है
तुम्हारे शेर उसी बाँकपन में लौट आए

अमीर इमाम

__

ख़ामोशी के नाख़ुन से छिल जाया करते हैं
कोई फिर इन ज़ख़्मों पर आवाज़ें मलता है

अमीर इमाम

__

इन को ख़ला में कोई नज़र आना चाहिए
आँखों को टूटे ख़्वाब का हर्जाना चाहिए

मुहम्मद रफ़ी साहब द्वारा गायी गई ग़ज़लें…
__

वो काम रह के शहर में करना पड़ा हमें
मजनूँ को जिस के वास्ते वीराना चाहिए

__

दानाइयाँ भी ख़ूब हैं लेकिन अगर मिले
धोका हसीन सा तो उसे खाना चाहिए

__

सोच लो ये दिल-लगी भारी न पड़ जाए कहीं
जान जिसको कह रहे हो जान होती जाएगी

अमीर इमाम

__

तिरे बदन की ख़लाओं में आँख खुलती है
हवा के जिस्म से जब जब लिपट के सोता हूँ

अमीर इमाम
__

हर रंग एक रंग से हम-रंग हो गया
तस्वीर ज़िंदगी की उभरती चली गई

अमीर इमाम
__

इस बार राह-ए-इश्क़ कुछ इतनी तवील थी
उसके बदन से हो के गुज़रना पड़ा मुझे

अमीर इमाम

हसरत मोहानी के बेहतरीन शेर
__

पूरी अमीर इमाम की तस्वीर जब हुई
उसमें लहू का रंग भी भरना पड़ा मुझे

अमीर इमाम
Ameer Imam Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *