Meer Taqi Meer ki shayari. Ghazal Shayari Maqta संज्ञा के प्रकार ह वाले शब्द Sangya Ke Bhedसाहित्य दुनिया

Manchanda Bani Best Sher

जाने वो कौन था और किसको सदा देता था
उससे बिछड़ा है कोई इतना पता देता था

राजेन्द्र मनचंदा बानी

_________
मिर्ज़ा जाफ़र अली ‘हसरत’ की शायरी

बगूले उस के सर पर चीख़ते थे
मगर वो आदमी चुप ज़ात का था

राजेन्द्र मनचंदा बानी

________

ऐ दोस्त मैं ख़ामोश किसी डर से नहीं था
क़ाइल ही तिरी बात का अंदर से नहीं था

राजेन्द्र मनचंदा बानी

__________

कोई भी घर में समझता न था मिरे दुख सुख
एक अजनबी की तरह मैं ख़ुद अपने घर में था

राजेन्द्र मनचंदा बानी

________
उस्तादों के उस्ताद शायरों के 400 शेर…

अजीब तजरिबा था भीड़ से गुज़रने का
उसे बहाना मिला मुझसे बात करने का

राजेन्द्र मनचंदा बानी

________

ओस से प्यास कहाँ बुझती है
मूसला-धार बरस मेरी जान

राजेन्द्र मनचंदा बानी

_________

वो टूटते हुए रिश्तों का हुस्न-ए-आख़िर था
कि चुप सी लग गई दोनों को बात करते हुए

राजेन्द्र मनचंदा बानी

________

‘बानी’ ज़रा सँभल के मुहब्बत का मोड़ काट
इक हादसा भी ताक में होगा यहीं कहीं

राजेन्द्र मनचंदा बानी
________

ज़रा छुआ था कि बस पेड़ आ गिरा मुझ पर
कहाँ ख़बर थी कि अंदर से खोखला है बहुत

राजेन्द्र मनचंदा बानी
आज फिर गर्दिश-ए-तक़दीर पे रोना आया – शकील बदायूँनी
________

आज क्या लौटते लम्हात मयस्सर आए
याद तुम अपनी इनायात से बढ़ कर आए

राजेन्द्र मनचंदा बानी

साहिर लुधियानवी: संगीतकार से भी ज़्यादा शोहरत कमाने वाला गीतकार

_________

ढलेगी शाम जहाँ कुछ नज़र न आएगा
फिर इस के ब’अद बहुत याद घर की आएगी

राजेन्द्र मनचंदा बानी

_________

उदास शाम की यादों भरी सुलगती हवा
हमें फिर आज पुराने दयार ले आई

राजेन्द्र मनचंदा बानी
_________

Manchanda Bani Best Sher

अपनी शायरी में इन शब्दों का बार-बार इस्तेमाल करते हैं तहज़ीब हाफ़ी…
मन में गहरे पैठती हैं, ममता सिंह के कहानी संग्रह ‘किरकिरी’ की हर कहानी
दकनी शायर: बीजापुर और गोलकुंडा के दरबार की शायरी
मुहम्मद रफ़ी साहब द्वारा गायी गई ग़ज़लें…
यूनिवर्सिटी छात्रों को पसंद आने वाली शायरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *